Sunday, March 9, 2014

Tom Clausen टॉम क्लॉसेन

Sunday morning-
a brook sparkles
out of the hills

रविवार की सुबह
एक झरना चमक रहा
पहाड़ों के बीच से






stand of tall trees-
not sure what
I'm turning into

लम्बे पेड़ों का झुँड -
समझ नहीं आ रहा
मैं किस में बदल रहा






daybreak-
a spider centered
in its web

अरुणोदय -
एक मकड़ी केंद्रित है
अपने जाल में






straight out
of a dream
another day...

सीधा निकला
स्वप्न में से
एक और दिन-





a few floors down
in another building
someone else looks out

कुछ मंज़िल नीचे
एक और इमारत में
कोई और बाहर झांक रहा





-Tom Clausen / टॉम क्लॉसेन

Tom Clausen is a librarian at the University of Cornell, Ithaca, USA

2 comments: