Sunday, June 15, 2014

K. Ramesh के. रमेश


cloudy afternoon -
a chrysanthemum blooms
in the paper-folder’s hand

धुँधली दोपहर -
एक गुलदाऊदी खिल उठी
कागज़ बनाने वाले के हाथ में





dawn...
a cuckoo’s call deepens
the silence Acorn

प्रात:काल -
एक कोयल की पुकार गहरी कर रही
निस्तब्धता






friend’s house -
I make tea
for both of us

मित्र का घर -
मैंचाय बना रहा हूँ
हम दोनों के लिये






row of faces...
a school bus
passing by the sea Wisteria

चेहरोंकी पंक्ति
स्कूल की बस
समुद्र केपास से गुज़र रही






moonlit bridge...
an ant moves
on the railing

चांदनी में सेतु
एक चींटी चल रही
बन्नी पर

-K. Ramesh is a teacher at the Krishnamurthy Foundation School in Chennai, published in India and
abroad.

No comments:

Post a Comment